============
यदि पुत्री की इच्छा हो तो ॠतुकाल की 5, 7, 9 या 15वीं रात्रि में से किसी एक रात्रि का शुभ मुहूर्त पसंद करना चाहिए कृष्णपक्ष के दिनों में गर्भ रहे तो पुत्र व शुक्लपक्ष में गर्भ रहे तो पुत्री पैदा होती है
=============================================
मुकदमा जीतने के लिये - होली की आग लाकर उसके कोयले से स्याही बनाकर लोहे की सलाई से मुकदमा नम्बर और शत्रु पक्ष का नाम सात कागजों पर लिख कर पुन: होली की अग्नि के पास जायें और सात परिक्रमा करें, हर परिक्रमा पर एक कागज़ होली की आग में डाल दें
==============================================
होली दहन का मुहूर्त 19 मार्च 2011 को होलीका दहन का मुहूर्त शाम 6 बजकर 43 मिनट से 9 बजकर 30 मिनट तक है और 9 बजकर 44 मिनट से लेकर रात्री 12 बजकर 44 मिनट तक का श्रेष्ठ मुहूर्त है
=============================================
राहू शांति के लिए होली के दिन क्या करें===१.- एक नारियल का गोला लेकर उसमे अलसी का तेल भरकर..उसी में थोडा सा गुड डाले..फिर उस नारियल के गोले को राहू से ग्रस्त व्यक्ति अपने शारीर के अंगो से sparsh करवाकर जलती हुई होलिका में डाल देवे.aagami पुरे वर्ष भर राहू से परेशानी की संभावना नहीं अहेगी...२.--अलसी के तेल में सेबफल को भिगोकर ...उसमे राहू ग्रस्त व्यक्ति ..अपनी उम्र/ आयु अनुसार उतने ही लॉन्ग लगायें..फिर उस सेबफल को हाथ में लेकर जलती हिई होली की चार परिक्रमा लगायें..और इष्ट देवता का नाम स्मरण करते हुए.राहू मुक्ति की प्रार्थना करते हरे उसी जलती हुई होली में डाल देवे...
=====================================================
यदि आप किसी से पैसा मांग rahe हे और वह देने में aana कानी करता हे तो होली के दिन निम्न उपाय करें----
## आप ग्यारह गोमती चक्र हाथ में लेकर जलती हुई होलिका की ग्यारह बार परिक्रमा करते हुए धन प्राप्ति की प्रार्थना करे..फिर एक सफ़ेद कागज पर उस व्यक्ति का नाम लाल चन्दन से लिखें जिससे पैसा लेना हे ..लाल चन्दन से नाम लिखाकर उस सफ़ेद कागज को ग्यारह गोमती चक्र के साथ में कही गड्डा खोदकर सारी सामग्री सारी गड्डे me दबा देवे...इस प्रयोग से धन प्राप्ति की संभावना बढ़ जाएगी...
=====================================================
यदि आपको koyi अज्ञात / अंजान भय रहता हो..बिना किसी कारण के तो निम्न उपाय करें होली के दिन--
एक सुखा जटा वाला नारियल लेवें..दो लॉन्ग..और काले तिल एवं पिली सरसों ..उपरोक्त सारी सामग्री एक साथ लेकर..उसे सात बार/ दफा अपने सर के ऊपर उतार कर जलती होलिका में डाल देने से अज्ञात भय/ दर समाप्त हो जटा हे..
=====================================================
यदि आप का दाम्पत्य जीवन किसी कारणवश thik / अच्छा नहीं हे तो -----होली के दिन सात गोमती चक्र लेकर अपने दाम्पत्य सुख की कामना करते हुए एक -एक गोमती चक्र जलती हुई होलिका दे डालते जाये ....apne इष्ट देवता से प्रार्थना भी करते रहें ..मन ही मन में... आपकी समस्या दूर होने की संभावना बढ़ जाएगी ...
Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours