आज का मुहूर्त और राशिफल---सोमवार ,4 ,अप्रैल 2011--- 

शुभ विक्रम संवत- 2068, शालिवाहन शक संवत- 1933, 
संवत्सर का नाम- क्रोधी, अयन- उत्तरायन, ऋतु- वसंत, 
मास- चैत्र, पक्ष- शुक्ल, तिथि- प्रतिपदा रात्रि 10.24 पश्चात द्वितीया, 
हिजरी सन्- 1432, मु. मास- रबिलाखर, तारीख- 29, 
नक्षत्र- रेवती सायं 5.15 पश्चात आश्विनी, योग- ऐंद्र प्रात: 10.24 पश्चात वैधृति, सूर्योदयकालीन करण- किंस्तुघ्न,
 चन्द्रमा- मीन राशि से मेष राशि में प्रवेश सायं 5.15 पर करेंगे। 
दिन- शुभ। दिशाशूल- पूर्व में। मुहूर्त- नवीन प्रतिष्ठान प्रारंभ करने का मुहूर्त। 
कार्य की अनुकूलता के लिए- देवी दर्शन, पूजन करें।
 दिन का पर्व- संवत्सर आरंभ, गुड़ी पड़वा, चैत्र नवरात्रि, घटस्थापना। 
उपयोगी ज्ञान- नवरात्रि में बोए जाने वाले जवारे गेहूँ के अलावा जौ, चावल अथवा अन्य धान्यों के भी बोए जा सकते हैं। 
शुभ समय- प्रात: 09.52 से 11.48 दिन 3.16 से 5.11। 
सुझाव- आवश्यक न हो तो प्रात: 07.51 से 09.23 के मध्य शुभ 
------------------------------------------------------------------------------------------
दैनिक राशिफल
 
व्यापार-व्यवसाय में उतार-चढ़ाव रहेगा। अपने गुस्सा पर काबू रखें। नए अनुबंध नहीं करें। आर्थिक वृद्धि के प्रयास निष्फल होंगे। सरकारी मामले उलझेंगे।
 
 
किसी बात को लेकर मन परेशान रहेगा। परिश्रम का महत्व समझें। आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। अनावश्यक वाद-विवाद को टालें।
 
 
फिजूल की बातों को नजरअंदाज करें। सामाजिक मामलों में आपकी आलोचना होगी। परिवार में सुख-शांति रहेगी। व्यावसायिक कार्य सफल नहीं हो पाएँगे।
 
 
सुख-साधनों में वृद्धि होगी। व्यापार, नौकरी में स्थिति मध्यम रहेगी। कामकाज में सुधार के योग हैं। रचनात्मक कार्यों का प्रतिफल मिलेगा।
 
 
लापरवाही हानिकारक हो सकती है। पारिवारिक समस्याओं से उबर सकेंगे। कार्य में आशातीत सफलता मिलेगी। राज्यपक्ष से लाभ एवं प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।
 
 
उन्नति का मार्ग प्रशस्त होगा। नए परिचय फायदेमंद होंगे। संतान से खट-पट हो सकती है। कारोबार में लाभदायी परिवर्तन की संभावना है।
 
 
संतान की चिंता रहेगी। शत्रु पक्ष आपकी छवि बिगाड़ने की कोशिश करेंगे। व्यापार की समस्याओं से मन परेशान रहेगा।
 
 
 वृश्चिक
अधिकारियों से संबंध मधुर होंगे। रुका पैसा मिलेगा। परिवार की समस्याओं पर ध्यान दीजिए। व्यापार, नौकरी के सिलसिले में की गई यात्राएँ लाभदायक होंगी।
 
 
अधूरे कार्य पूर्ण होंगे। नई योजनाएँ सफल होंगी। संयम रखकर काम करें। व्यापार में लाभदायक सौदे होने के योग हैं। माता का स्वास्थ्य ठीक रहेगा।
 
 
समाज में आपका प्रभाव बढ़ेगा। व्यापार में नई योजनाओं का शुभारंभ होगा। खर्चों में कमी आवश्यक है। आपके कार्यों की प्रशंसा होगी।
 
 
कार्यक्षेत्र में वांछित प्रगति की संभावना है। आवास संबंधी समस्या रह सकती है। लाभ बढ़ने से निवेश एवं बचत में वृद्धि होगी।
 
 
सामाजिक कार्यों में सीमित रहना चाहिए। क्रोध, उत्तेजना पर संयम रखें। उत्साह और उमंग का वातावरण रहेगा। महत्व के कार्य सिद्ध होंगे।

Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours