धन प्राप्त करने के लिये जो नियम है उनके अनुसार वह ग्रह जो केन्द्र तथा त्रिकोण का स्वामी हो अथवा अन्य शुभ भावों का स्वामी हो तो वह धन पदवी आदि वांछित पदार्थों की उपलब्धि करवाता है। इसके अलावा जो भाव पापी है,और उनके स्वामी यदि केवल पाप प्रभाव में हों तो पापत्व के नाश के द्वारा धन की सृष्टि करते हैं। ग्रहों के द्वारा यह पता लग सकता है कि ग्रह की कीमत कितने रुपये की है,और एक ही लगन में अगर अलग अलग प्रकार के ग्रह हैं तो वे अलग अलग कीमत का बखान करेंगे,लेकिन उस ग्रह की कीमत तब और बढ जायेगी,जब वह साधारण बली से अति बली स्थिति में पहुंच जायेगा। किसी कुन्डली के धनेश की दशा में कोई भी बात कहने से पहले यह पता कर लेंगे कि कुन्डली का स्तर क्या है,यह बात शुभ धन दायक ग्रहों के योगों के द्वारा पता लगेगी। इन योगों की संख्या जितनी अधिक होती है उतना ही अधिक धन मिलता है। धन दायक योगों के लिये पहले शुक्र को देखना होगा,कि वह एक या एक से अधिक लगनों में बैठा है।लगन दूसरे भाव नवम भाव और एकादस भाव के बलवान स्वामियों की परस्पर युति अथवा द्रिष्टि द्वारा हो,नवम दसम के स्वामियों का सम्बन्ध,चौथे और पांचवें भाव के स्वामियों का सम्बन्ध शुभ सप्तमेश तथा नवमेश का संबन्ध पंचमेश और सप्तमेश का शुभ सम्बन्ध भी धन का कारक बनता है। तीन छ: आठ और बारह भावों के स्वामी अगर अपनी राशियों से बुरे भावों में बैठें और बुरे ही ग्रहों द्वारा देखे जावें तो भी धन की सृष्टि होती है।

उदाहरण---

मेष राशि का बुध वृश्चिक राशि में अष्टम स्थान में है,और शनि के पाप प्रभाव में हो,तो बुध बहुत निर्बल हो जायेगा,कारण-
वह अनिष्टदायक भाव में है,
वह शत्रु राशि में स्थित है,
वह शनि द्वारा द्रष्ट है,
वह तृतीय स्थान से छठे स्थान में विराजमान है,
वह छठे स्थान से तीसरा होकर बुरा है,

तीनो लगनों के स्वामी आपस में युति कर लेते है तो भी धन दायक योग बन जाता है। शुक्र गुरु से बारहवें भाव में बैठ जावे तो भी धन दायक हो जाता है,चार या चार से अधिक भावों का अपने स्वामियों से द्र्ष्ट होने पर भी धनदायक योग बन जाता है। किसी ग्रह का तीनों लगनों से शुभ बन जाना भी धनदायक योग बना देता है,सूर्य या चन्द्र का नीच भंग हो जाना भी धनदायक बन जाता है। कोई उच्च का ग्रह शुभ स्थान में चला जाये,और जिस स्थान में वह उच्च का ग्रह गया उसका स्वामी भी उच्च में चला जाये तो भी धनदायक योग बन जाता है। शुभ भाव का स्वामी अगर बक्री हो जाये तो भी धनदायक योग बन जाता है,यदि यह सब कारण तीनों लगनों में आजाये तो शुभता कई गुनी बढ जाती है।
Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours