श्री विष्णोरष्टाविंशतिनामस्तोत्रम----पंडित दयानन्द शास्त्री

अर्जुन उचाव--

किं नु नाम सस्त्राणि जपते च पुन: पुन:!
यानि नामानि दिव्यानि चाचक्ष्व केशव!!१!!
अर्जुन ने पूछा-केशव!
मनुष्य बारंबार एक हजार नामों का जप क्यों करता है? आपके जो दिव्य नाम हों, उनका वर्णन कीजिये!!१!!

श्रीभगवानुवाच--

मत्स्यं कूर्मं वराहं वामनं च जनार्दानम!
गोविन्दं पुण्डरीकाक्षं माधवं मधुसूदनम!!२!!
पद्मनाभं सहस्त्राक्षं वनमालिं हलायुधम !
गोवर्धनं हृषीकेशं वैकुंठन पुरुशोत्तामम!!३!!
विश्वरूपं वासुदेवं रामं नारायणं हरिम !
दामोदरं श्रीधरं च वेदांग गरुड़ध्वजम !!४!!
अनन्तं कृष्णगोपालं जपतो नास्ति पातकं!
गवां कोटिप्रदानस्य अश्वमेधशतस्य च!!५!!
कन्यादानसहस्त्रानां फलं प्राप्नोति मानव:!
अमायां वा पौर्णमास्यामेकादाश्यां तथैव च!!६!!
संध्याकाले स्मरेन्नित्यं प्रात:काले तथैव च!
मध्यान्हे च जपन्नित्यं सर्वपापै: प्रमुच्यते!!७!!

श्री भगवान कृष्ण बोले--

अर्जुन! मत्स्य, कूर्म, वाराह, वामन, जनार्दन, गोविन्द, पुंडरीकाक्ष, माधव, मधुसूदन, पद्मनाभ, सहस्त्राक्ष, वनमाली, हलायुध, गोवर्धन, हृषीकेष, वैकुण्ठ, पुरुषोत्तम, विश्वरूप, वासुदेव, राम, नारायण, हरि, दामोदर, श्रीधर, वेदांग, गरुड़ध्वज, अनंत, और कृष्णगोपाल-- इन नामों का जप करने वाले मनुष्यके भीतर पाप नहीं रहता! वह एक करोड़ गोदान, एक सौ अश्वमेघ-यज्ञ और एक हजार कन्यादान का फल प्राप्त करता है! अमावस्या, पूर्णिमा तथा एकादशी तिथि को और प्रतिदिन सायं-प्रात: रवन मध्याह्न के समय इन नामों का जप करनेवाला पुरुष सम्पूर्ण पापोंसे मुक्त हो जाता है!
Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours