मनचाहे वाहन सुख के लिए शिव को इन मंत्रों से चढ़ाएं चमेली के फूल---


जीवन में समय का सदुपयोग बहुत जरूरी है। सफलता और सुख के लिये सही वक्त पर की गई हर कोशिश निर्णायक और सुखद नतीजे लाती है, वरना मौका चूकने पर हाथ लगती है असफलता, निराशा और कुण्ठा। इसलिए वक्त के साथ गति का भी महत्व है, क्योंकि वक्त ठहरता नहीं।

व्यावहारिक जीवन में समय और गति में तालमेल बनाने वाले साधनों में एक है-वाहन। हर इंसान वाहन सुख चाहता है। जरूरत, काम या शौक आदि अलग-अलग कारणों से हर कोई अपने पास छोटे या बड़े वाहन होने की कामना करता है।

सांसारिक जीवन की कामनाओं की बात हो तो हिन्दू धर्म में भगवान शिव की भक्ति सर्वश्रेष्ठ मानी गई है। शिव उपासना के लिए सोमवार का दिन बहुत शुभ होता है। अगर आप भी चाहते हैं कि आपके पास निजी वाहन हो तो यहां शिव उपासना के लिए एक ऐसा सरल उपाय बताया जा रहा है, जो वाहन सुख की कामना को पूरा करता है। जानें शिव पूजा की सरल विधि और मंत्र -

- प्रात: स्नान कर शिव मंदिर में शिवलिंग को शुद्ध जल से स्नान कराएं।

- शिवलिंग पर दूध मिले जल की धारा अर्पित करें। इस दौरान शिव का पंचाक्षरी मंत्र ॐ नम: शिवाय का स्मरण करते रहें।

- फिर से पवित्र जल से स्नान कराकर शिव की पूजा गंध, अक्षत, बिल्वपत्र अर्पित करें। इन सामग्रियों के अलावा वाहन सुख की कामना पूरी करने के लिए विशेष रूप से भगवान शिव को चमेली के सुगंधित और स्वच्छ फूल नीचे लिखें सरल मंत्रों से अर्पित करें -

- ॐ हराय नम:

- ॐ महेश्वराय नम:

- ॐ शम्भवे नम:

- ॐ शूलपाणये नम:

- ॐ पशुपतये नम:

- चमेली के फूलों को चढ़ाकर शिव को यथाशक्ति दूध से बने पकवानों का भोग लगाएं।

- आखिर में शिवलिंग की घी के दीप और कर्पूर आरती कर मनोकामना पूरी होने की प्रार्थना करें।

धार्मिक मान्यताओं में ऐसी शिव पूजा बिना संशय के मनचाहा वाहन देने वाली या वाहन सुख में आने वाली बाधा दूर करती है।
Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours