आदरणीय महोदय/ महोदया


        पिछले 10 वर्षों से अक्षरम प्रवासी मीडिया समूह के सहयोग से हिंदी का सबसे बड़ा वार्षिक वैश्विक आयोजन अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सव के रूप में करती रही है। इसमें हिंदी के प्रसिद्ध विद्वान साहित्यकारबुद्धिजीवीप्रवासी साहित्यकार,पत्रकाररंगकर्मी आदि  भाग लेते हैं। इस कार्यक्रम को प्रत्येक वर्ष भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषदविदेश मंत्रालय का सहयोग मिलता रहा है। इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सव का आयोजन प्रवासी दुनिया ,अक्षरम और हंसराज कालेज ,विश्वविद्यालय  द्वारा संयुक्त तत्वावधान  में 10-12 जनवरी 2012  को किया जा रहा है। इस उत्सव का  उद्घाटन कार्यक्रम भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषदविदेश मंत्रालय के सहयोग से आजाद भवनसभागार में किया जाएगा । जिसमें कई देशों के राजदूतभारत सरकार के वरिष्ठ प्रतिनिधि और प्रवासी समुदाय के प्रतिनिधि भाग लेंगे। दिनांक 11 जनवरी से होने वाले सभी अकादमिक सत्र प्रसिद्ध हंसराज कालेज दिल्ली विश्वविदयालय में होंगे जिनमें हिंदी  भाषा का भविष्य विदेशों में हिंदी शिक्षण ,विदेशों में हिंदी - भाषा साहित्य और मीडियाहिंदी और रोजगारहिंदी और प्रोद्योगिकी प्रवासी साहित्यभारतीय वाड्मय - अंतर्राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य देवनागरी लिपि जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर कार्यशालासेमिनार व गोष्ठियों का आयोजन होगा । सांस्कृतिक कार्यक्रमों में आवारा मसीहा का नाट्य मंचन और अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन मुख्य आकर्षण रहेंगे।


हिंदी के इस वार्षिक वैश्विक आयोजन में आपकी भागीदारी बहुमूल्य है। यह एक कार्यक्रम नहीं अपितु हिंदी समाज का एक विमर्श है। इसमें हिंदी भाषा और साहित्य से जुड़े  सामयिक और प्रासांगिक विषयों पर साहित्यकारों , विद्वानों की भागीदारी होगी । यह एक अत्यंत विशिष्ट और महत्वपूर्ण कार्यक्रम है । आपसे अनुरोध है कि इसमें पधार कर भाषा के यज्ञ में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें।कार्यक्रम में भागीदारी निशुल्क है परंतु भोजन, जलपान सहित भागीदारी के लिए 1000 रू शुल्क रखा गया है। इसके लिए प्रवासी दुनिया.काम पर लगाए फार्म को भर कर भेजने का कष्ट करें।

कार्यक्रम के विभिन्न सत्र व विस्तृत जानकारी प्रवासी दुनिया.काम पर है। 

दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सव 10 – 12 जनवरी 2012

सादर 

अनिल जोशी
संयोजक , अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सव


Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours