वर्ष 2012 अंक शास्त्र/ अंक ज्योतिष के सन्दर्भ में---( एक विश्लेषण)--

वर्ष 2012 का जोड़ /योग पांच (05 ) आता हें और पांच का अंक बुध का होता हें.. 
अंक- 5 यह वर्ष  अंक पांच वालों के लिए सुख देने वाला रहेगा। इस वर्ष  अंक पांच वालों को धन की प्राप्ति होगी। माता-पिता से सहयोग मिलेगा। आय उत्तम रहेगी। इस अंक वालों के कार्यों से अधिकारी प्रसन्न होंगे। शुभ समाचार मिलेंगे। इस वर्ष पदोन्नति के योग बन रहे हैं। शुभ रंग- हरा 
यदि हम स्वतन्त्र भारत देश की कुंडली पर गोर/विचार करें तो इसमें बुध दुसरे (धन भाव) में हें तथा पंचम भाव ( आकस्मिक लाभ ) का स्वामी भी हें..इन सभी के कारण इस वर्ष भारत की आर्थिक स्थिति ठीक होने के साथ साथ विदेशी पूंजी निवेश बढेगा...संचार के क्षेत्र में नयी क्रांति का आगाज/शुरुआत होगी...इस क्षेत्र में व्यापर एवं रोजगार बढ़ेंगे...नए उद्योग -धंधे शुरू होंगे...

काला धन वापस आएगा...युवाओ को रोजगार के बेहतर अवसर मिलेंगे/बढ़ोत्तरी होगी...
बुध प्रधान वर्ष होने के कारण इस वर्ष मिथुन और कन्या राशी वालो को विशेष लाभ होगा...
शुक्र एवं शनि की राशी बुध प्रधान होने के कारण वृषभ,तुला,मकर और कुम्भ राशी के लिए ठीक रहेगा...
सूर्य राशी सिंह के लिए सामान्य रहेगा यह वर्ष...
बाकि की शेष राशियों के लिए ( मेष,मीन,धनु और वृश्चिक) भी सामान्य स्थिति ही रहने वाली हें...
उपाय-- भगवन गणेश की सेवा,पूजा,आराधना   करे..उन्हें दूर्वा अर्पित करें...हरी वस्तु का दान करें..( हरे वस्त्र,हरी घांस, हरी इलायची,आंवला)...
भोजन में हरी सब्जी को जरुर शामिल करें...
संकट नाशन गणपति स्रोत  एवं गणपति अथर्व शीर्ष का पाठ करें..
किसी योग्य ज्योतिष आचार्य से सलाह लेकर ( कुंडली दिखाकर) मन्त्र-यंत्र-रत्न धारण करें...
"शुभम भवतु"..कल्याण हो..
पंडित दयानंद शास्त्री ( 09024390067 ; 09711060179 )
आचार्य वाघाराम ( 09001742766 )

Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours