---आज का सुविचार--- प्रेम जोड़ने का कार्य करता हें तोद्वेश तोड़ने का...प्रेम सुई(जोड़ने) का कार्य  करता हे तो द्वेष केंची की तरह कार्य करता हें..
--- सुख और दुःख मानव जीवन रूपी म्यान में एक साथ नहीं रह सकते ! 
--- दुःख सफलता का प्रथम निमंत्रण है! 
--- मनुष्य सुख पाकर अहंकार करता है तभी तो दुःख आकर उसे पीड़ा देता है! 
--- यदि दुःख मनुष्य का पिता है तो वेदना माता की गोद ! 
--- विपत्ति या विपदा से बढ़कर कोई शिक्षक नहीं है! 
---जिस प्रकार कांटे गुलाब की रक्षा करते है, ठीक उसी प्रकार दुःख व्यक्ति के व्यक्तित्व की रक्षा करते है! 
---मानव जीवन के प्रष्टो पर जो लिखावट लिखी गई है, उसका अधिकांश भाग वेदना , आंसू या काँटों की कलम से लिखा गया है ! 
--- वेदना माता की वह गोद है जिसमे रहकर व्यक्ति अपने व्यक्तित्व का निर्माण करता है ! 
---जिसने कभी दुःख नहीं देखा वह सबसे बड़ा दुखियारा है! 
---दुःख एक देवदूत है, जिसके सिर पर कंटक किरीट विराजमान है! 
--- जीवन में यदि कुछ पाना है तो दुःख के दिनों कोइ गले लगाओ ! 
--- दुखो से पीड़ित व्यक्ति जीते जी म्रत्यु को प्राप्त करता है! 
--- प्रकाशमान नक्षत्र तभी चमकते है तब अंधकार पर्याप्त मात्र में होता है!
--आज का सुविचार--आपके जीवन का राजध्मन्त्र ष्खुशीष् हें,इसलिए खुश रहो और सभी को खुशी का दान बांटते चलो!!!!
---ज्ञान का अर्जन सबसे सुरक्षित संग्रह हें क्यों की इसे ना कोई चुरा सकता हें और ना ही कोई छीन सकता हें... और जो हमेशा आपके साथ चलता हें..!!!
----समय के साथ बदलाव जो लोग स्वीकार नहीं करते ,वे तरक्की की दौड़ में पीछे रह जाते है।
आज का सुविचार--यदि आप सभी की अच्छाइयों को धारणध्ग्रहण करते रहेंगे तो किसी की अच्छाई पर प्रभावित नहीं होंगे..
आज का सुविचार--प्रत्येक अच्छा कार्य पहले असंभव नजर आता है !
आज का सुविचार---बडा आदमी वह है..जो किसी का कर्जदार नहीं हैं।जिसकी सेहत अच्छी है और अपना काम खुद कर लेता है।जिसे सोने के लिए नींद की गोलियां और जागने के लिए अलार्म की जरूरत नहीं पडती, वह संसार का सबसे बडा आदमी है।
--- यदि आप में सहनशीलता का गुण हें तो आपको सत्यता की शक्ति स्पष्ट नजर आएगीध्दिखाई देगी...
आज का सुविचार---यदि दिल और दिमाग ....दोनों के समन्वय से कोई भी कार्य किया जाये तो सफलता मिलती रहेगी..
आज का सुविचार--यदि आप अपने मन एवं बुद्धि को भटकने से बचायेंगे तो एकाग्रता की शक्ति जमा हो जाएगी..
आज का सुविचार- जिस मनुष्य में स्नेह,शक्ति और ईश्वर प्रेमध्आकर्षणध्कृपा हें सभी उसे चाहते हेंध्सहयोगी बनते हें...
आज का सुविचार--निकम्मे बैठे रहने और किसी के सामने हाथ फैलाने की बजाय छोटा काम करके आत्मनिर्भर बने रहना ज्यादा श्रेष्ठ है। याद रखो, कोई काम तभी तक छोटा कहलाता है जब तक वह आखिरी ऊंचाई को छू नहीं लेता है।
आज का सुविचार---जबतक भौतिक सुखों का त्याग नहीं करते और अपने आप को भगवान के चरणों में पूर्ण रूपसे समर्पित नहीं कर देते तबतक ईश्वर को नहीं जान सकते! भगवान् के चरणों में समर्पित करने वाला मनुष्य करोड़ों में भी शायद एक हो! ईश्वर को तो वही प्राप्त कर सकता है, जिसने अपना पूर्ण जीवन ईश्वर भक्ति में लगा दिया हो और मन, बुद्धि और अहंकार को अपने वश में कर लिया हो!
आज का सुविचार-- एक दो को देखने के बजाय स्वयं को देखना और परिवर्तन करना ही श्रेष्ठ पुरुषार्थ हें...
-- - जब आप किसी काम की शुरुआत करें , तो असफलता से मत डरें और उस काम को ना छोड़ें. जो लोग इमानदारी से काम करते हैं वो सबसे प्रसन्न होते हैं.
आज का सुविचार -- अगर मन लगाकर भक्ति या सांसरिक काम किया जाये तो उसमें सफलता मिलती है। आदमी क्या भगवान भी बस में किये जा सकते हैं।
आज का सुविचार-दुनिया में सबसे तेज रफ़्तार दुवाओं की है ...क्योंकि दिल से जुबान तक पहुँचने से पहले ही ये रब तक पहुँच जाती है
--- सबसे उत्तम बदला है क्षमा कर देना । ‘‘ क्षमा विरस्य भूषणम् ‘‘ ।
--- उदाहरण प्रस्तुत करना , उपदेश देने से कहीं अच्छा है । 
--- सिर्फ हंगामा खड़ा करना हमारा मकसद नही । हमारी कोशिश है यह ‘‘ सूरत  ‘‘ बदलनी चाहिऐ । 
--- मनुष्य की संकल्प शक्ति के आगे देवता व दानव भी नतमस्तक हो जाते है । 
----दुनिया क्या सोचती है ,  यह हमारे लिऐ महत्वपूर्ण नही है । हम दुनिया के लिऐ क्या सोचते है यह महत्वपूर्ण है ।
----सोच को बदल दीजिए , सितारे बदल जायेगें । नज़र को बदल दीजिए , नजारे बदल जायेगें । 
किश्तियां बदलने की जरूरत नही , दिशायें बदल दीजिए , किनारे बदल जायेगें । 
------Beautiful Life is Just An Imagination----But Life Is More Beautiful Than Our Imagination--Enjoy Ur Beautiful Life]In A Beautiful Way-

Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours