पुरुष की नाभि से जानिए उसका व्‍यक्तित्‍व----


सामुद्रिक शास्‍त्र, भारतीय ज्योतिष का एक प्रमुख अंग है। इसके आधार पर विभिन्‍न अंगों की सरंचना को देख आप व्‍यक्ति के बारे में बता सकते हैं। किसी पुरुष की नाभि को देखकर उसके बारे में कैसे आंकलन किया जा सकता है। आइये जाने---

नाभिः स्याददक्षिणावर्ता शुभदा त्वपराशुभा।
गम्भीररा सुखभोगाढया पूगीनाभिस्तु मातृहा।।

1- दक्षिणावर्त नाभि शुभ मानी जाती है, और वामावर्त नाभि अशुभ मानी जाती है, गहरी नाभि सुख और भोग से युक्त करती है तथा उंची नाभि माता का विनाश करने वाली होती है। 

2- जिस व्यक्ति की नाभि उंची व गहरी होती है, उस व्यक्ति का विवाह किसी धनाढय स्त्री के साथ होता है। ऐसे जातक सौन्दर्य के पुजारी माने जाते है तथा इन्हे अचानक धन प्राप्ति की भी सम्भावना रहती है। ये स्वभाव से काफी मिलनसार व मददगार होते है। 

3- यदि किसी व्यक्ति की नाभि उठी हुयी हो तो, वह मनुष्य अपने वैवाहिक जीवन से परेशान रहता है तथा कुछ ऐसी परिस्थितियां भी आ सकती है कि तलाक देने तक की नौबत आ जाये । अतः ये जल्दबाजी में आकर विवाह का निर्णय न लें तो हितकर रहेगा। समय का प्रबन्धन करना इनके स्वभाव में शामिल होता है। 

4- जिस पुरूष की नाभि समतल व सामान्य अवस्था में हो, वह व्यक्ति बुद्धिमान, विद्यावान व सौभाग्यशाली होता है। ये प्रत्येक सम्बन्ध को दिल से निभाने का प्रयास करते है, परन्तु लोग इनके साथ छल-कपट की भावना रखते है। इनकी पत्नी खुले विचारों वाली व स्पष्टवादी प्रकृति की होती है। 

5- यदि किसी मनुष्य की नाभि उपर की ओर उठी हुयी हो तो, वह व्यक्ति स्वंय तो जीवन में काफी संघर्ष करता है परन्तु उसकी सन्तानें अत्यन्त होनहार होती है। इनके जीवन में धन कमाने के कई अवसर आते है परन्तु आत्मा इन्हे अनुमति नहीं देती है। विश्वसनियता का नैतिक गुण इनमें विद्यमान होता है जिसके कारण लोग इनका काफी मान-सम्मान भी करते है। 

6- जिस पुरूष की नाभि नीचे की ओर झुकी हुयी हो, उस व्यक्ति के कन्यायें अधिक होने की सम्भावना होती है। इनकी पहली पुत्री भाग्यशाली होती है जिसके आने से इनके जीवन में सुख व समृद्धि आती है।

Share To:

पंडित "विशाल" दयानन्द शास्त्री

Post A Comment:

0 comments so far,add yours